सावधान! Mi के नकली स्मार्टफोन मिल रहे हैं मार्केट में, कैसे पता करे असली है या नकली

Please log in or register to like posts.
News

जब भी मार्केट में जिस स्मार्टफोन की डिमांड ज्यादा रहती है। उसी स्मार्टफोन की हूबहू नकल करके कुछ कंपनियां डुप्लीकेट बनाने लग जाती हैं। पहले तो इन सब मामलों में केवल Samsung की ही अधिकतर डुप्लीकेट फोन मार्केट में दिखाई देते थे। लेकिन पिछले वर्ष आखिरी 3 महीनों में Mi के कुछ स्मार्टफोन जो काफी मात्रा में बेचे गए थे। उसकी भी नकल करके यह कंपनियां डुप्लीकेट मॉडल बनाकर बेच रही है। उनमें शाओमी रेडमी 4, शाओमी रेडमी नोट 3, मुख्य रूप से बेचे गए थे।

अब यह भी माना जा रहा है कि, यह लोग जल्द ही Redmi mi 5 की डुप्लीकेट भी मार्केट में लॉन्च कर सकते हैं। क्योंकि इस समय Mi 5 का जिक्र मार्केट में बहुत ज्यादा फैला हुआ है। तो इसलिए आप आगे से स्मार्टफोन खरीदते समय इन बातों का ध्यान रखकर डुप्लीकेट फोन खरीदने से बच सकते हैं।

तो आइए जानते हैं वह कौन-कौन से तरीके हैं, जिनकी मदद से हम असली और नकली फोन में अंतर पता कर सकते हैं।

कलर और डिजाइन (Colour and Design)

जब भी आप अपने पसंदीदा कंपनी के फोन खरीदने जाए तो उसके मॉडल की थोड़ी बहुत जानकारी आपको होनी चाहिए। आप जिस मॉडल की फोन खरीदना चाहते हैं, उसकी ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर उसके बारे में थोड़ी बहुत जानकारी जुटा लें। खास करके पता कर लेंं कि इस फोन को कंपनी ने कितने कलर वेरिएंट में लॉन्च किया है। और यह दिखने में कैसा है। इंटरनेट पर आप इसकी तस्वीर देख सकते हैं। लेकिन यह तस्वीर आपको इसके ऑफिशियल या फिर भरोसेमंद ई-कॉमर्स वेबसाइट पर ही देखना चाहिए।

स्मार्टफोन का लुक (Smartphone Look)

नकली स्मार्टफोन देखने में बिल्कुल असली की तरह दिखाई देते हैं। इसे देखकर आप भी धोखा खा सकते हैं। क्योंकि कोई भी खरीददार सबसे पहले स्मार्ट फोन के लुक को देखता है। उसके बाद ही फीचर्स देखता है। इसलिए जब भी आप स्मार्टफोन की लुक देखें तो उसकी बॉडी की फर्निशिंग और कंपनी की डिजाइन एवं लोगो जरूर देखें। यदि उसके डिजाइन के सेट में कुछ गड़बड़ है। या फिर लोगो ऊपर नीचे कहीं लगा हुआ है तो, वह स्मार्टफोन नकली हो सकता है। इतना ही नहीं यदि जब भी फोन देखें तो, बॉक्स में निकालते समय उसकी पैकिंग और वारंटी पेपर को भी ध्यान से जरूर देख लें।श

वजन (Weight)

स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनियां अपने ऑफिशियल वेबसाइट पर उस मॉडल से संबंधित सारी जानकारियां शेयर करती हैं कर देती हैं। इसमें आपको स्मार्टफोन के वजन के बारे में भी जानकारी मिल जाएगा। हम उसके वजन से भी पता कर सकते हैं कि, स्मार्टफोन असली है या नकली। मान लीजिए यदि स्मार्टफोन का वजन डेढ़ सौ ग्राम है। लेकिन हो सकता है कि नकली फोन का वजन इससे ज्यादा होगा या फिर कम भी हो सकता है। इसकी बड़ी वजह यह है कि नकली स्मार्टफोन में हल्के पार्ट का इस्तेमाल होता है। इस वजह से यह फोन हल्के भी हो सकते हैं, या भारी हो सकते हैं।

स्पीड और फीचर्स (Speed and Feature)

स्मार्टफोन की स्पीड एवं फीचर्स की तुलना करके भी हम असली नकली का पता लगा सकते हैं लेकिन इसे इतनी जल्दी नहीं परखा जा सकता नकली स्मार्ट फोन में सॉफ्टवेयर की मदद से उसकी हार्डवेयर डिटेल बदल दी जाती है वैसे इन स्मार्टफोन को फीचर से भी पहचान सकते हैं ओरिजिनल स्मार्ट में जो फीचर्स दिए गए होते हैं वह नकली स्मार्टफोन में नहीं होते कई बार तो नकली स्मार्टफोन में कुछ ऐसे फीचर्स दिए जाते हैं जो ओरिजिनल स्मार्टफोन में नहीं मिलते हैं।

कीमत (Price)

नकली स्मार्टफोन आपको मार्केट में ओरिजिनल से कम दामों पर मिल जाएंगे। हो सकता है कि मार्केट में आपको ओरिजिनल जैसे दिखने वाला यह स्मार्टफोन कम कीमत पर मिले। लेकिन एक बात का ध्यान रखिए कंपनी अपने स्मार्टफोन को कितने में सेल कर रही है। इसका पता आप ऑनलाइन लगा सकते हैं। यानी कम कीमत के लालच में आप नकली स्मार्टफोन खरीदने की गलती बिल्कुल ना करें।

गारंटी या वारंटी (Guarantee or Warranty)

जब भी आप कोई नया स्मार्टफोन खरीदने जाते हैं तो, उसकी गारंटी और वारंटी के बारे में जरूर पूछ लें। साथ ही फोन के साथ आने वाले वारंटी पेपर्स को भी अच्छी तरह से चेक कर लीजिए। एवं रिटेल शोरूम या शॉप का सील/मुहर उसपर लगवाना ना भूलें। कंपनी अपने स्मार्टफोन पर 1 साल या फिर उससे अधिक की गारंटी देती है। साथ ही नए प्रोडक्ट के डिफेक्ट होने पर, रिप्लेसमेंट की सुविधा भी देती है। लेकिन दूसरी तरफ नकली स्मार्टफोन में आपको यह सुविधा नहीं मिलती। इसलिए उनके कागजातों को अच्छे से पढ़ लें।

आईएमईआई नंबर (IMEI Number)

फोन को चेक करने का और भी एक आसान तरीका है उसका ‘आईएमईआई’ नंबर, आपको बता दें कि सभी फोन का अलग-अलग आईएमईआई नंबर होता है। जिसकी मदद से आप फोन के गुम या चोरी होने की सूरत में इसे ब्लॉक करने का काम ‘आईएमईआई’ नंबर के तहत किया जाता है। कंपनी आईएमईआई नंबर की जानकारी स्मार्टफोन के पीछे की तरफ जहां बैटरी फिट होते हैं, वहां पर देती है। साथ ही साथ ही आपको वारंटी पेपर में भी यह जानकारी मिल जाएगी। आप इसे *#06#* पर कॉल करके चेक भी कर सकते हैं। अगर दो सिम वाला स्मार्टफोन है तो उसमें दो आईएमईआई नंबर होते हैं।

वेंडर रेटिंग (Vendor Rating)

जब भी आप ऑनलाइन फोन खरीदें तो वेंडर रेटिंग जरूर देख लें। अच्छे वेंडर रेटिंग वाले प्रोडक्ट के फेक होने की संभावना बहुत ही कम होती है। इसके लिए आप अच्छी रेटिंग वाली इ-कॉमर्स शॉपिंग वेबसाइट जैसे, अमेजॉन, फ्लिपकार्ट, HomeShop18, Snapdeal जैसे ऑनलाइन स्टोर से शॉपिंग कर सकते हैं। कई कंपनियां भी अपनी ई-कॉमर्स साइट पर स्मार्ट फोन की सेलिंग करती हैं जो ओरिजिनल होती हैं।

ऐप्स की मदद (Apps Help)

आप एक और ओरिजिनल मोबाइल का पता ऐसे भी लगा सकते हैं। Google Play Store में ऐसे बहुत सारे ऐप्स है। जिसकी मदद से आप अपने स्मार्टफोन की हार्डवेयर से जुड़ी सभी जानकारियां आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। इन एप्स की मदद से आप अपने स्मार्टफोन के प्रोसेसर, रैम, ग्राफिक्स के साथ ही स्मार्टफोन का मॉडल, स्क्रीन, ब्रांड एवं अन्य सॉफ्टवेयर की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

This article is non-journalistic content copyrighted by the We-Media author and do not reflect the views of UC News

Reactions

Nobody liked ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.